Question: गुण कैसे मिलाये जाते है?

शादी के लिए गुण कैसे देखें?

क्या नाम से गुण मिलान मुमकिन है? नाम के अनुसार कुंडली मिलान का अर्थ होता है कि लड़का और लड़की दोनों के नाम का नक्षत्रों के हिसाब से गुण मिलान करना। इसमें दोनों के नाम से पता लगाया जाता है कि उनके कितने गुण मिल रहे हैं और इनकी शादी कैसी निभेगी। गणना के अनुसार 36 गुण मिलने पर विवाह के लिए शुभ संकेत माना जाता है।

नाम से कुंडली मिलान कैसे करते हैं?

कुंडली मिलान की इस महत्वपूर्ण प्रक्रिया में विवाह के लिए प्रस्तावित दोनों वर और कन्या के नाम की मदद से यह ज्ञात किया जाता है कि आपस में उनके कितने गुण एक दूसरे से मेल खाते हैं। जिसके बाद उन्हीं गुणों के आधार पर यह तय किया जाता है कि उनका वैवाहिक जीवन कैसा होने वाला है।

कुंडली से जाने कब होगा विवाह free?

अगर आपकी जन्‍मकुंडली के सातवे भाव में बुध या कोई पाप ग्रह जैसे राहु, केतू, मंगल शनि से दृष्‍ट या इने साथ ना हो तो ऐसे में आपका विवाह 22 साल की उम्र से पहले ही हो जाता है। अगर आपके पास आपकी जन्‍म कुंडली नहीं है तो आप AstroVidhi पर निशुल्‍क कुंडली स्‍वयं बना सकते हैं और अपनी कुंडली में विवाह योग को देख सकते हैं।

नामकरण कैसे करें?

कैसे करें नामकरण?अगर आपको अपने बच्चे के लिए कुछ अच्छा नाम समझ नहीं आ रहा तो आप किसी दोस्त, रिश्तेदार आदि से भी सलाह ले सकते हैं।नामकरण बच्चे की राशिफल, ग्रह और नक्षत्रों को ध्‍यान में रखकर ही करें। बच्चे का नाम ऐसा रखे जो प्रचलित हो और जल्द ही सबकी ज़ुबान पर चढ़ जाये।More items

नाम से गुण कैसे देखें?

कीरो पद्धति पर आधारित है नाम से गुण मिलान वर-वधु के नाम से गुण मिलान से यह पता चलता है कि उनका आने वाला वैवाहिक जीवन कैसा बीतेगा और उनकी शादी सफल होगी या नहीं। इसलिए पंडित वर-वधु का नाम से गुण मिलान कर पता करते हैं कि वो दोनों एक दूसरे के लिए कितने योग्य हैं।

विवाह के लिए कितने गुण मिलना जरूरी है?

कुंडली में मुख्य रूप से 8 चीजों का मिलान होता है जैसे गण, ग्रहमैत्री, नाड़ी, वैश्य, वर्ण, योनी, तारा और भकूट इन्हीं सब को मिलाकर कुल 36 गुण बनते हैं।

जन्म कुंडली से कैसे जाने विवाह कब होगा?

अगर आपकी जन्‍मकुंडली के सातवे भाव में बुध या कोई पाप ग्रह जैसे राहु, केतू, मंगल शनि से दृष्‍ट या इने साथ ना हो तो ऐसे में आपका विवाह 22 साल की उम्र से पहले ही हो जाता है। वहीं सप्‍तम भाव में बुध बैठा हो तो उस जातक का विवाह 22 से 25 साल की उम्र में होता है। अगर राहु या शनि का प्रभाव हो तो 27 की उम्र में विवाह होता है।

बच्चों के नाम कैसे रखा जाता है?

बच्‍चे का रखना है सबसे अच्छा नाम, तो अपनाएं ये टिप्‍स​सुनने में अच्‍छा हो नाम ऐसा होना चाहिए जिसे सुनकर दिल को खुशी मिले। ​ट्रेंडी ना​म न चुनें आजकल विहान और कियारा जैसे नाम बहुत चल रहे हैं। ​नाम का मतलब होना चाहिए अपने बच्‍चे को हमेशा ऐसा नाम दें जिसका कोई प्‍यारा-सा मतलब हो। ​छोटा और आसान होना चाहिए ​निकनेमJun 9, 2020

शुक्रवार के दिन जन्मे बच्चे का नाम क्या रखना चाहिए?

हम लड़की के लिये माता लक्ष्‍मी संतोषी वैभव लक्ष्मी के नाम पर लडकी के नाम और लड़को के लिये माता लक्ष्‍मी के 18 पुत्रों के नाम के साथ शुक्र देव के नाम भी शेयर कर रहे है.

कुंडली मिलान में भकूट क्या होता है?

यदि वर-वधू की कुंडलियों में चन्द्रमा परस्पर 6-8, 9-5 या 12-2 राशियों में स्थित हों तो भकूट मिलान के 0 अंक माने जाते हैं तथा इसे भकूट दोष माना जाता है। यदि वर-वधू दोनों की जन्म कुंडलियों में चन्द्र राशियों का स्वामी एक ही ग्रह हो तो भकूट दोष खत्म हो जाता है।

Contact us

Find us at the office

Canzona- Dimeco street no. 37, 78300 Cayenne, French Guiana

Give us a ring

Ronzell Dupere
+94 603 665 727
Mon - Fri, 9:00-20:00

Write us